होली की कहानी, क्यों मनाई जाती है | Best Holi Festival India history, its facts, 2022 Celebration In Hindi

होलिका दहन की कहानी, इतिहास व होली क्यों मनाई जाती है ( Holi Festival India story 2022 Celebration, Holika Dahan history, Prahlad story, Hiranyakashipu facts,  In Hindi)

होली की कहानी व होली क्यों मनाई जाती है (Mythological Story of Holi Festival India):

हमारा देश भारत त्योहारों का देश है, यहां विभिन्न जातियों के लोग भिन्न भिन्न त्योहारों को बड़े प्रेम व् उत्साह के साथ मनाते हैं और इन्हीं त्योहारों में रंगों का त्यौहार हैं “होली”।

आमतौर पर भारत में त्योहार हिंदी पंचाग के अनुसार मनाए जाते हैं। इस तरह फाल्गुन मास की पूर्णिमा के दिन होली मनाई जाती है। इस पर्व को बसंत ऋतु के स्वागत का पर्व माना जाता है।

प्रत्येक त्योहार के मनाने की अपनी कहानी होती है, जो धार्मिक मान्यताओं पर आधारित होती है। होली के पीछे भी एक कहानी है। हिरण्यकश्यप नाम का एक राजा था, जो खुद को सबसे अधिक शक्तिशाली मानता था, इसलिए वह देवताओं से घृणा करता था और देवताओं के भगवान विष्णु का नाम सुनना भी पसंद नहीं करता था, लेकिन उसका पुत्र प्रह्लाद भगवान विष्णु का बहुत बड़ा भक्त था। हिरण्यकश्यप को यह बात बिल्कुल भी पसंद नहीं आई।

Holi festival
होली है

वह अपने बेटे को कई तरह से डराता था और उसे भगवान विष्णु की पूजा करने से रोकता था, लेकिन प्रह्लाद ने उसकी एक नहीं सुनी, वह अपने भगवान की भक्ति में लीन था। एक दिन हिरण्यकश्यप ने इससे परेशान होकर एक योजना बनाई।

होली के अवसर में घर पर बनाये बाज़ार से अच्छी ठंडाई रेसिपी

जिसके अनुसार हिरण्यकश्यप ने अपनी बहन होलिका (इस होलिका को अग्नि पर विजय प्राप्त करने का वरदान प्राप्त था, अग्नि उसे जला नहीं सकती थी) को प्रह्लाद के साथ अग्नि की वेदी पर बैठने को कहा। प्रह्लाद अपनी बुआ के साथ वेदी पर बैठ गया और अपने भगवान की भक्ति में लीन हो गया।

तभी अचानक होलिका जलने लगी और आकाशवाणी हुई, जिसके अनुसार होलिका को याद दिलाया गया कि अगर वह अपने वरदान का दुरुपयोग करती है तो वह खुद जलकर राख हो जाएगी और ऐसा ही हुआ. प्रह्लाद की आग को कुछ भी नहीं बिगाड़ सका और होलिका जलकर राख हो गई।

इसी प्रकार लोग उस दिन को हर्षोल्लास के साथ मनाते थे और आज तक उस दिन को होलिका दहन के रूप में मनाया जाता है और अगले दिन हम इस दिन को सभी जन रंगों से मनाते हैं।

कैसे मनाते हैं होली (Holi Festival) :

होली का त्यौहार वैसे तो पूरे भारत में मनाया जाता है, लेकिन उत्तर भारत में इसे अधिक उत्साह के साथ मनाया जाता है। होली का त्योहार देखने के लिए लोग ब्रज, वृंदावन, गोकुल जैसी जगहों पर जाते हैं। इन जगहों पर इस पर्व को कई दिनों तक मनाया जाता है।

ब्रज ( बरसाने की होली ) में एक ऐसी प्रथा है, जिसमें पुरुष महिलाओं पर रंग लगाते हैं और महिलाएं उन्हें लाठियों से पीटती हैं, यह एक बहुत प्रसिद्ध प्रथा है, जिसे देखने के लिए लोग उत्तर भारत जाते हैं।

कई जगहों पर फूलों की होली भी मनाई जाती है और गाने बजाने के साथ-साथ सभी एक दूसरे से मिलते हैं और खुशियां मनाते हैं.

मध्य भारत और महाराष्ट्र में रंग पंचमी का अधिक महत्व है, लोग एक समूह बनाते हैं और एक-दूसरे के घर रंग, गुलाल लेकर जाते हैं और एक-दूसरे को रंग लगाते हैं और कहते हैं “होली जैसा बुरा मत मानो”।

मध्य भारत के इंदौर शहर में, होली अलग तरह से मनाई जाती है, इसे रंग पंचमी का “गैर” कहा जाता है, जिसमें इंदौर का पूरा शहर एक साथ निकलता है और गायन और नृत्य करके त्योहार का आनंद लिया जाता है। इस तरह के आयोजन के लिए 15 दिन पहले से तैयारी की जाती है।

रंगों के इस त्योहार को “फाल्गुन महोत्सव” भी कहा जाता है, जिसमें ब्रज की भाषा में पुराने गीत गाए जाते थे। भांग पान भी होली का एक खास हिस्सा है। सभी नशे के नशे में धुत होकर एक दूसरे के गले लगकर सारे गम भुलाकर एक दूसरे के साथ नाचते गाते हैं।

होली पर घरों में कई तरह के व्यंजन बनाए जाते हैं। स्वाद से भरपूर हमारे देश में हर त्योहार पर खास तरह के व्यंजन बनाए जाते हैं।

होली में रखे सावधानी (Holi Festival Precaution)

1. होली रंगों का त्योहार है, लेकिन इसे सावधानी से मनाने की जरूरत है। आजकल रंगों में मिलावट के कारण बहुतों को नुकसान उठाना पड़ता है, इसलिए होली को गुलाल के साथ मानना ​​ही उचित है।

2. इसके साथ ही भांग में अन्य नशीले पदार्थों का मिलना भी आम बात है, इसलिए ऐसी चीजों से बचना बेहद जरूरी है।

3. गलत रंग के इस्तेमाल से भी आंखों की बीमारी होने का खतरा बढ़ रहा है। इसलिए केमिकल वाले रंगों के इस्तेमाल से बचें।

4. घर के बाहर बनी कोई भी चीज खाने से पहले सोच लें, त्योहार के दौरान मिलावट का खतरा और बढ़ जाता है।

5. एक-दूसरे को रंग सावधानी से लगाएं, अगर कोई नहीं चाहता है तो जबरदस्ती न करें। होली जैसे त्योहारों पर लड़ाई-झगड़े भी बढ़ने लगे हैं।

होली शायरी (Holi Festival Message)

रंगों से भरी इस दुनियां में, रंग रंगीला त्यौहार है होली,
गिले शिक्वे भुलाकर खुशियाँ मनाने का त्यौहार है होली,

रंगीन दुनियां का रंगीन पैगाम है होली,
हर तरफ यहीं धूम है मची “बुरा ना मानों होली है होली

चलो आज हम बरसों पुरानी
अपनी दुश्मनी भुला दें।
कई होलियां सूखी गुजर गई
इस होली पर आपस में रंग लगा लें।

हमेशा मीठी रहे आपकी बोली,
खुशियों से भर जाए आपकी झोली,
आप सबको मेरी तरह से
हैप्पी होली।

FAQ:

Q. होली क्यों मनाई जाती है

Ans: यह त्यौहार वसंत ऋतु के आगमन और आने वाले पर्वों, और बुराई पर अच्छाई की जीत के लिए मनाया जाता है। हालांकि यह पारंपरिक रूप से एक हिंदू त्योहार है, होली दुनिया भर में मनाई जाती है और एक महान तुल्यकारक है।

Q. होली का त्यौहार कब और क्यों मनाया जाता है?

Ans: होली का त्योहार हिंदू चंद्र कैलेंडर माह के अंतिम पूर्णिमा के दिन होता है। यह दो दिवसीय कार्यक्रम है: पहले दिन, परिवार एक पवित्र अलाव के लिए एकत्र होते हैं। दूसरे दिन, रंगों का त्योहार मनाया जाता है। 2022 में, होली शुक्रवार 18 मार्च २०२२ को मनाई जाएगी

Q. होली का महत्व क्या है?

Ans: होली का एक अलग ही महत्व है। इसमें हमें बुराई पर अच्छाई की जीत देखने को मिलता है। इससे हमें ये शिक्षा मिलती है की बुराई चाहे कितनी भी सुहानी नज़र आए लेकिन अंत में हमेशा अच्छाई की ही जीत होती है।

Q. होली की शुरुआत कैसे हुई?

Ans: इस त्योहार की शुरुआत बुंदेलखंड में झांसी के एरच से हुई है. ये कभी हिरण्यकश्यप की राजधानी हुआ करती थी. यहां पर होलिका भक्त प्रहलाद को अपनी गोद में लेकर आग में बैठी थी, जिसमें होलिका जल गई थी लेकिन प्रहलाद बच गए थे. कहा जाता है तभी होली के पर्व की शुरुआत हुई थी

Q. होली की सच्चाई क्या है?

Ans: वहीं,पौराणिक कथा के अनुसार जब कंस को श्रीकृष्ण के गोकुल में होने का पता चला तो उसने पूतना नामक राक्षसी को गोकुल में जन्म लेने वाले हर बच्चे को मारने के लिए भेजा। … लेकिन कृष्ण उसकी सच्चाई को समझ गए। उन्होंने दुग्धपान करते समय ही पूतना का वध कर दिया। कहा जाता है कि तभी से होली पर्व मनाने की मान्यता शुरू हुई।

Q. होलिका कौन सी जाति की थी?

Ans: इन्हें यादवों की कुल देवी भी माना गया है।

Q. होलिका का दूसरा नाम क्या था?

Ans: होलिका हयग्रीव , हिरण्यकशिपु और हिरण्याक्ष नामक दैत्यों की बहन और प्रह्लाद अनुहल्लाद , और हलाद की बुआ थी। । जिसका जन्म जनपद- कासगंजके सोरों शूकरक्षेत्र नामक स्थान पर हुआ था।

Q. होली हमें क्या सिखाती है?

Ans: होली का त्योहार स्पष्ट संदेश देता है कि ईश्वर से बढ़कर कोई नहीं होता। सारे देवता, दानव, पितर और मानव उसी के अधीन है। जो उस परमतत्व को छोड़कर अन्य में मन रमाता है वह होली के त्योहार के संदेश को नहीं समझता। ऐसा व्यक्ति संसार की आग में जलता रहता है और उसे बचाने वाला कोई नहीं है।

Q. हिरण्यकश्यप की बहन का क्या नाम था?

Ans: हिरण्यकश्यप भगवान से ईर्ष्या करता था। इसलिए उसने भक्तराज प्रहलाद यानी अपने बेटे को मारने का निश्चय किया। हिरण्यकश्यप की एक बहन थी जिसका नाम होलिका था। उसने ब्रह्मा जी से वरदान प्राप्त किया था किसी भी प्रकार की अग्नि उसे जला नहीं सकेगी।0

Q. होलिका दहन में क्या क्या डालते हैं?

Ans: होलिका दहन में किसी वृक्ष कि शाखा को जमीन में गाड़ कर उसे चारों तरफ से लकड़ी कंडे उपले से घेर कर निश्चित मुहूर्त में जलाया जाता है. इसमें छेद वाले गोबर के उपले, गेंहू की नई बालियां और उबटन जलाया जाता है. ताकि वर्षभर व्यक्ति को आरोग्य की प्राप्ति हो और उसकी सारी बुरी बलाएं अग्नि में भस्म हो जाएं.

Q. होलिका के माता पिता कौन थे?होलिका के माता पिता कौन थे?

Ans: अगर होलिका हिरण्यकश्यप की खास बहन थी तो उनके भी पिता का नाम कश्यप ऋषि और माता का नाम दिति था।

Q. होलिका दहन की पूजा कैसे करते हैं?

Ans: कच्चे सूत को होलिका के चारों ओर तीन या सात परिक्रमा करते हुए लपेटना होता है। फिर लोटे का शुद्ध जल व अन्य पूजन की सभी वस्तुओं को एक-एक करके होलिका को समर्पित किया जाता है। रोली, अक्षत व पुष्प को भी पूजन में प्रयोग किया जाता है। गंध-पुष्प का प्रयोग करते हुए पंचोपचार विधि से होलिका का पूजन किया जाता है।

Q. होलिका दहन की पूजा कैसे करे?

Ans: हालिका दहन से पूर्व होलिका की पूजा की जाती है। इस दिन होलिका के पास पूर्व या उत्तर दिशा में मुख करके बैठ जाना चाहिए। फिर गणेश और गौरी की पूजा करनी चाहिए। इसके बाद ओम होलिकायै नम: होलिका के लिए, ओम प्रह्लादाय नम: भक्त प्रह्लाद के लिए और ओम नृसिंहाय नम: भगवान नृसिंह के लिए, जाप किया जाता है।

अन्य पढ़े :

रंग पंचमी हिंदी मेसेज शुभकामनाये शायरी

Holi 2022 | घर की बनी ठंडाई रेसिपी

4 thoughts on “होली की कहानी, क्यों मनाई जाती है | Best Holi Festival India history, its facts, 2022 Celebration In Hindi”

  1. Pingback: Holi 2022: रंगों का त्यौहार होली कब और क्यों मनाते हैं? | When and why do we celebrate Holi, Best festival of colors? - Krishnapriya Kitchen

Leave a Comment